Posted by
Posted in

संत नामदेव को संत गोरा की सीख

आज हम सभी संत नामदेव को जानते हैं लेकिन संत गोरा के बारे में कुछ नहीं जानते।  संत नामदेव को अहंकार से मुक्ति की शिक्षा संत गोरा से ही मिली थी।  जानते हैं पूरी कहानी :  महाराष्ट्र के संत ज्ञानेश्वर, नामदेव तथा मुक्ताबाई के साथ तीर्थाटन करते हुए प्रसिद्ध संत गोरा के यहां पधारे। संत […]

Posted by
Posted in

हितोपदेश की पांच कहानियां

1 बेबकूफ को ज्ञान न दे नर्मदा के तीर पर एक बड़ा सेमर का वृक्ष है। उस पर पक्षी घोंसला बनाकर उसके भीतर, सुख से रहा करते थे। फिर एक दिन बरसात में नीले- नीले बादलों से आकाशमंडल के छा जाने पर बड़ी- बड़ी बूँदों से मूसलाधार बारिश बरसने लगा और फिर वृक्ष के नीचे […]

Posted by
Posted in

धर्मशिक्षा की कहानी /पौराणिक कहानी

नचिकेता की कहानी  शाम का समय था। पक्षी अपने-अपने घोसले की ओर लौट रहे थे, पर वह बढ़ा जा रहा था, बिना किसी थकान और पछतावे के। उसे अपनी मंजिल तक पहुंचना ही था। यही उसके पिता की आज्ञा थी। उसका लक्ष्य था यमपुरी। वही यमपुरी, जहां यमराज निवास करते थे। उसे यमराज से ही […]

Posted by

A Love Story

Author – Dr. Shalini Agam A small love story…. Two Butterflies were in love… One day; they decided to play Hide ‘n’ Seek… During the play…. Boy Butterfly-”A small game within us” Girl Butterfly-”OK” Boy Butterfly- “The one who sits in this Flower tomorrow early in the morning… That one love the other one more… Girl […]

Posted by

Rachna Bisht Rawat’s 1965: Stories from the second Indo-Pak war commemorates five of the grittiest battles fought by the Indian Army

It is the night of September 21-22, 1965, and the pillboxes in Dograi on the outskirts of Lahore are blistering with Pakistani gunfire. In the pock-marked fields surrounding it are the soldiers of India’s 3 Jat battalion. Amidst the blaze of artillery shelling, the Commanding Officer, Lt. Col. Desmond Hayde has only two demands to […]

Posted by

Man who tipped culture min says cleaning needed

The anonymous man who had tipped the government on the ‘illegal’ appointment of Nehru Memorial Museums & Library (NMML) director on Saturday said more cleaning of corruption was needed in the museum. “I have opened the lid on the secrecy behind the appointment of the director. More irregularities willflow out,” 70-year-old Prof SP Singh, who has since 2005 […]

Posted by
Posted in

Meera Syal

‘I kept getting Victim of Arranged Marriages roles. So I wrote my own.’ Its been a breathless year for writer and actor Meera Syal. It began with her stint at National Theatre in David Hare’s adaptation of Beyond The Beautiful Forevers. Then came the citation of the CBE in may, followed by the news that […]

Posted by
Posted in

राग चिरंतन भोर वितान

लेखक – अशोक गुप्ता शाम तीन बज कर बीस मिनट हो ही रहे है की गली में खडंजे वाले  रास्ते  पर साइकिल की आहट होती है और  जानकी समझ जाती है की पिताजी आ पहुंचे हैं. तभी साइकिल की घंटी बजती है. यह संकेत है कि बेटा भानुप्रकाश अगर घर में होगा तो पुरुषोत्तम अग्निहोत्री के फाटक तक पहुँचने के पहले ही बाहर आ कर खड़ा हो […]

Posted by
Posted in

एक बूंद सहसा उछली

लेखक – अशोक गुप्ता आँख खुलते ही उस औरत ने बिस्तर छोड़ा और उठ कर अपने कमरे की खिडकी के पास आ कर बैठ गई. बाहर सुबह का होना अभी बस शुरू ही हुआ था. धूप फैलने की दस्तक अभी दूर थी, बस परिंदों ने पेड़ों पर अपनी गुंजन भरी कवायद शुरू कर दी थी. उस औरत का कमरा मकान की दूसरी मंजिल पर था.कमरे के दरवाज़े के सामने दालान था और फिर एक सहन, जिसके एक कोने से सीढियां नीचे उतरती थीं. कमरे की खिड़की मकान के पिछवाड़े एक मैदान की तरफ खुलती थी जो कहलाता तो पार्क था लेकिन था नहीं, फिर […]