नाजनीन दीदी से मुलाकात
Posted by

नाजनीन दीदी से मुलाकात

लेखक – डॉ. संगीता झा गार्गी के पिता पेशे से वकील थे और उनके एक बहुत खास मित्र थे पाशा अंकल। जब भी गर्ग साहब रायपरु आते पाशा अकंल से जरूर मिलत। एक बार तो इन चारां सखियों को लेकर पाशा अंकल के यहां गए। वहां उनके यहां तो जैसे एक मिनी जू था। तोते, रंगीन […]

सेकेंड एम.बी.बी.एस.-1
Posted by

सेकेंड एम.बी.बी.एस.-1

लेखक – डॉ संगीता झा पूरी मेडिकल पढ़ाई में सेकेंड एम.बी.बी.एस. को मेडिकल पढ़ाई का सुनहरा काल कहे तो कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी। यही समय रहता है जब स्टूडेंट्स एनाटाॅमी और फिजियोलाॅजी के टेन्स वातावरण के बाहर आते हैं, बल्कि पहली बार मरीजों को हाथ से छनू े का अवसर मिलता ह।ै पढ़ाई के साथ-साथ […]

फर्स्ट एम.बी.बी.एस. इम्तिहान
Posted by

फर्स्ट एम.बी.बी.एस. इम्तिहान

लेखक  – डॉ. संगीता झा अब तो सब जोर-शोर से पढ़ने में ही लगे थे। एक्जाम जो सर पर थे। धुले सर का दसूरे मेिडकल कालॅजे में ट्रांसफर हो गया था आरै एनाटोमी वही एक्सटरनल बन कर आने वाले थे। इससे एनाटाॅमी के सारे टीचर बड़े रिलेक्स्ड थे कि इस बात तो पुराने रीपिटर्स भी पास […]

Posted by

अपनी तो निकल पड़ी

फर्स्ट टमिर्नल परीक्षाएं हो गयी थीं आरै कॉलेज एक महीने के लिए बदं था। रिजल्ट भी ठीक-ठाक ही था, लेकिन इस बार बाबूजी अम्मा किसी से नहीं कह पा रहे थे कि सुनीति अपराजिता है। कक्षा में सर्वप्रथम आयी है क्योंकि यहां तो सभी सुनीति थे या उससे बढ़कर। इन छुट्टियों में सुनीति का मन ही घर […]

कुछ खट्टी कुछ मीठी – 2
Posted by

कुछ खट्टी कुछ मीठी – 2

कहां तो सुनीति की जिंदगी में रंग थे, सपने थे, उत्साह था, उमंग थी और न जाने ईश्वर ने उसकी जिदंगी को कितनी सारी  से नवाजा था आरै सब कछु अब सुनीति को धराशायी नज़र होता आ रहा था। पर करे भी तो क्या करे, ओखली में सिर दे दिया है तो मूसल का क्या डर। […]

कुछ खट्टी कुछ मीठी
Posted by

कुछ खट्टी कुछ मीठी

लेखक – डॉ संगीता झा हास्टल के दरवाजे पर जूनियर्स का स्वागत करने के लिए हास्टल में रहने वाली सीनियर्स के अलावा डे स्कालर्स (घर से कालेज आने वाले) सीनियर लड़कियां भी थीं। सबकी जुबान पर बस एक नाम था सुनीति चौहान। जो भीड़ में सिर झुकाए खड़ी जरूर थी, पर अपने कुरते से अपनी सुड […]

पी.एम.टी. रिजल्ट
Posted by

पी.एम.टी. रिजल्ट

लेखक – डॉ. संगीता झा ”मम्मी, मैं कालेज जा रही हूं। शाम को देर से लौटूंगी आज मेडिसन की एक्स्टां क्लास है। डा. सुनीति मुस्करा उठती है शायद ये भी पिछले हफ्ते की तरह ही एक्स्टां क्लास हो, जिसमें सुनीति को बेटी के बैग से सिनेमा की टिकटें मिल गयी थी। जिसे दख्ेा कर भी उन्हानेें अनदख्ेाा […]