नाजनीन दीदी से मुलाकात
Posted by

नाजनीन दीदी से मुलाकात

लेखक – डॉ. संगीता झा गार्गी के पिता पेशे से वकील थे और उनके एक बहुत खास मित्र थे पाशा अंकल। जब भी गर्ग साहब रायपरु आते पाशा अकंल से जरूर मिलत। एक बार तो इन चारां सखियों को लेकर पाशा अंकल के यहां गए। वहां उनके यहां तो जैसे एक मिनी जू था। तोते, रंगीन […]

सेकेंड एम.बी.बी.एस.-1
Posted by

सेकेंड एम.बी.बी.एस.-1

लेखक – डॉ संगीता झा पूरी मेडिकल पढ़ाई में सेकेंड एम.बी.बी.एस. को मेडिकल पढ़ाई का सुनहरा काल कहे तो कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी। यही समय रहता है जब स्टूडेंट्स एनाटाॅमी और फिजियोलाॅजी के टेन्स वातावरण के बाहर आते हैं, बल्कि पहली बार मरीजों को हाथ से छनू े का अवसर मिलता ह।ै पढ़ाई के साथ-साथ […]

फर्स्ट एम.बी.बी.एस. इम्तिहान
Posted by

फर्स्ट एम.बी.बी.एस. इम्तिहान

लेखक  – डॉ. संगीता झा अब तो सब जोर-शोर से पढ़ने में ही लगे थे। एक्जाम जो सर पर थे। धुले सर का दसूरे मेिडकल कालॅजे में ट्रांसफर हो गया था आरै एनाटोमी वही एक्सटरनल बन कर आने वाले थे। इससे एनाटाॅमी के सारे टीचर बड़े रिलेक्स्ड थे कि इस बात तो पुराने रीपिटर्स भी पास […]

Posted by

अपनी तो निकल पड़ी

फर्स्ट टमिर्नल परीक्षाएं हो गयी थीं आरै कॉलेज एक महीने के लिए बदं था। रिजल्ट भी ठीक-ठाक ही था, लेकिन इस बार बाबूजी अम्मा किसी से नहीं कह पा रहे थे कि सुनीति अपराजिता है। कक्षा में सर्वप्रथम आयी है क्योंकि यहां तो सभी सुनीति थे या उससे बढ़कर। इन छुट्टियों में सुनीति का मन ही घर […]

Rare’ supermoon’ eclipse on sunday
Posted by

Rare’ supermoon’ eclipse on sunday

The United States and much of the world will see skies graced by a bright, big moon that will be encapsulated in a total lunar eclipse late Sunday evening into early Monday,according to NASA. The lunar combination is happening for the first time in 30 years. The supermoon, which comes around once every year, will […]

Charles Dickens fascinated the dead
Posted by

Charles Dickens fascinated the dead

The most celebrated novelist in the English language, but Charles Dickens was a real weirdo. When he wasn’t writing about hungry orphans or grumpy misers, Dickens enjoyed hanging out at the Paris Morgue. Dickens’s fascination with the dead went way past morbid curiosity. His attraction to corpses was so strong that Dickens ended up at […]

Hemingway committed suicide like his father
Posted by

Hemingway committed suicide like his father

The writer of works like ‘The Sun also Rises’ (1926) , ‘Death in the Afternoon’, The Green Hills of Africa’ and ‘To Have and Have Not’and Nobel prize winner Ernest Hemingway. started going into depression with the deaths of some of his close friends. He was also seriously injured in two successive plane crashes. He […]

बदले रंग
Posted by
Posted in

बदले रंग

लेखक – डॉ संगीता झा ये सुनीति के जीवन में पिछले पांच महीनों में सबसे अच्छा दिन साबित हुआ। उस दिन शीतल और गार्गी से जो दोस्ती की शुरूआत हुई वो आज तक जारी है। दोनों आज भी डाॅ. सुनीति की अभिन्न मित्रा हैं। अब शुभदा की असलियत का पता अंकिता को भी चल गया […]

कुछ खट्टी कुछ मीठी – 2
Posted by

कुछ खट्टी कुछ मीठी – 2

कहां तो सुनीति की जिंदगी में रंग थे, सपने थे, उत्साह था, उमंग थी और न जाने ईश्वर ने उसकी जिदंगी को कितनी सारी  से नवाजा था आरै सब कछु अब सुनीति को धराशायी नज़र होता आ रहा था। पर करे भी तो क्या करे, ओखली में सिर दे दिया है तो मूसल का क्या डर। […]