r k narayanमालगुडी की कहानी किस बच्चे को याद नहीं होगी।  कौन स्वामी के कारनामो से वाकिफ नहीं होगा।  आम आदमी और बच्चो के पहले बड़े लेखक आर के नारायण के जीवन से आइये परिचित होते हैं।
आर. के. नारायण का पूरा नाम रासीपुरम कृष्णास्वामी नारायणस्वामी है। आर. के. नारायण का जन्म 10 अक्टूबर, 1906 ई. को मद्रास (वर्तमान चेन्नई), भारत में हुआ था और इनकी मृत्यु 13 मई, 2001 में हुई। आर. के. नारायण अपनी पीढ़ी के अंग्रेज़ी में लिखने वाले उत्कृष्ट भारतीय लेखकों में से एक थे।
जीवन परिचय
अपनी दादी द्वारा पालित-पोषित नारायण ने 1930 में अपनी शिक्षा पूरी की और पूर्णत: लेखन में जुट जाने का निर्णय लेने से पहले कुछ समय तक शिक्षक के रूप में काम किया। उनके पहले उपन्यास स्वामी एण्ड फ़्रेंड्स (1935) में स्कूली लड़कों के एक दल के रोमांचक कारनामों का विभिन्न प्रकरणों में वर्णन है। इस पुस्तक और नारायण की इसके बाद की सभी कृतियों के पृष्ठभूमि दक्षिण भारत का काल्पनिक शहर मालगुडी है। नारायण आमतौर पर मानवीय सम्बन्धों की विशेषताओं तथा भारतीय दैनिक जीवन की विडंबनाओं का चित्रण करते हैं, जिसमें आधुनिक शहरी जीवन, पुरानी परम्पराओं के साथ टकराता रहता है। उनकी शैली शालीन है, जिससे सुसंस्कृत हास्य, लालित्य और सहजता का मिश्रण है।
प्रसिद्ध कृतियाँ
आर. के. नारायण की सबसे प्रसिद्ध कृतियों निम्नलिखित है:-
द इंग्लिश टीचर (1945)
वेटिंग फ़ॉर द महात्मा (1955)
द गाइड (1958)
द मैन ईटर आफ़ मालगुडी (1961)
द वेंडर ऑफ़ स्वीट्स (1967)
अ टाइगर फ़ॉर मालगुडी (1983)
प्रसिद्ध कहानियाँ
नारायण ने कई कहानियाँ भी लिखी हैं, जो निम्न है-
लॉली रोड (1956)
अ हॉर्स एण्ड गोट्स एण्ड अदर स्टोरीज़ (1970)
अन्डर द बैनियन ट्री एण्ड अद स्टोरीज़ (1985)
इसके अतिरिक्त उन्होंने ग़ैर कथा कृतियों (मुख्यत: संस्मरण) के साथ-साथ दो भारतीय महाकाव्यों रामायण-1972 और महाभारत-1978 का संक्षिप्त आधुनिक गद्य संस्करण भी प्रकाशित किया है। उनकी दो खण्डों वाली आत्मकथा का शीर्षक माई डेज़-अ मे’म्वा एण्ड माई डेटलेस डायरी-एन अमेरिकन जर्नी है।
सम्मान
कई पुरस्कारों के विजेता आर.के. नारायण को भारत सरकार ने 1964 में पद्म भूषण और वर्ष 2000 में पद्म विभूषण से सम्मानित किया। 1958 में उनकी कृति ‘द गाइड’ के लिए उन्हें साहित्य अकादमी पुरस्कार प्राप्त हुआ। वह रॉयल सोसायटी ऑफ़ लिटरेचर के फ़ेलो और अमेरिकन अकैडमी ऑफ़ आटर्स एण्ड लैटर्स के मानद सदस्य भी रहे। नारायण को रॉयल सोसायटी ऑफ़ लिटरेचर द्वारा 1980 में ए. सी. बेसन पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
मृत्यु
आर. के. नारायण का निधन 13 मई, 2001, चेन्नई, भारत में हुआ था।