roshniरोशनी बचपन से ही टीचर बनना चाहती थीं, लेकिन किन्हीं वजहों से ऐसा मुमकिन नहीं हो पाया। लेकिन कहा जाता है ना कि जहां चाह, वहां राह! दूसरों को पढ़ाने की रोशनी की इच्छा इतनी प्रबल थी कि उन्होंने फाइनली जॉब छोड़कर अपना यू-ट्यूब चैनल शुरू किया, जिस पर वह साइंस और मैथ्स पढ़ाती हैं और वह भी बिल्कुल फ्री। उनके यू-ट्यूब चैनल के 70 हजार से भी ज्यादा सब्सक्राइबर हैं और अभी तक 3900 से भी ज्यादा विडियो डाउनलोड हो चुके हैं। रोशनी ने 2011 में ExamFear.com को लॉन्च किया था। यह एक ऑनलाइन प्लैटफॉर्म है, जो 9वीं से 12वीं तक के स्टूडेंट्स को साइंस और मैथ्स के लेसन्स देता है। खास यह है कि वह इन मुश्किल सब्जेक्ट्स को रियल लाइफ के एक्सपीरियंस से जोड़कर बेहद आसान बना देती हैं। एक इंटरव्यू में उन्होंने माना कि वह सिर्फ पैशन ही था, जिसने मुझे इस प्लैटफॉर्म को स्टार्ट करने का मौका दिया। मैंने देखा कि बहुत-से स्कूल जो अच्छी क्वॉलिटी की एजुकेशन देते हैं, वे बहुत महंगे हैं और जो सस्ते हैं, उनकी क्वॉलिटी बहुत अच्छी नहीं है। ऐसे में मैंने ऐसा कुछ करने की सोची जिससे ऐसे स्टूडेंट्स की हेल्प हो सके, जो ट्यूशन का खर्चा नहीं उठा सकते। दरअसल, रोशनी का शुरू से ही टीचिंग की तरफ आकर्षण था। उन्होंने फिजिक्स में मास्टर्स डिग्री भी ली, लेकिन पापा की अचानक मौत के बाद उन्होंने फैमिली का खर्च उठाने के लिए एक एमएनसी में जॉब कर ली। कुछ वक्त के लिए टीचिंग की बात पीछे छूट गई, लेकिन कहीं-न-कहीं जरूरतमंद बच्चों को अच्छी एजुकेशन मुहैया कराने का जज्बा मन में बना रहा। इसी जज्बे से ExamFear.com का जन्म हुआ। उनके लिए यह सब शुरुआत में बहुत मुश्किल था। हफ्ते में 6 दिन काम करने के बाद वह रात में और संडे को विडियो बनाती। जैसे-जैसे स्टूडेंट्स के बीच विडियोज़ की पॉपुलैरिटी बढ़ी, कॉन्फिडेंस भी बढ़ने लगा। इसके बाद जॉब छोड़कर उन्होंने फुलटाइम इसी काम में जुटना तय किया। रोशनी हालांकि यह नहीं जानतीं कि उनके विडियोज़ का असली रेस्पॉन्स और असर क्या है, लेकिन उन्हें इसकी ज्यादा परवाह भी नहीं रही, क्योंकि उनका असली मकसद सिर्फ बच्चों को पढ़ाना था। देश भर से मिलनेवाले स्टूडेंट्स के कमेंट्स और मेसेज को वह अपना असली इनाम मानती हैं। फ्री प्लैटफॉर्म होते हुए भी वह स्टूडेंट्स से मिलनेवाले सवालों का जवाब जरूर देती हैं।

Courtesy- NBT- 270915